संकायाध्यक्ष, अंतर्राष्ट्रीय संबंध के कार्यालय की भूमिका भा.प्रौ.सं मुंबई की सभी अंतर्राष्ट्रीय गतिविधियों की देखरेख तथा समन्वयन करना है। इसके साथ हीः

विदेशी विश्वविद्यालयों एवं संस्थानों तथा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई (भा.प्रौ.सं.मुंबई) के बीच के संबंध को बढ़ावा देना और उपयुक्त समझौता ज्ञापन (एमओयू) के माध्यम से इस प्रकार के संबंधों के परिक्षेत्र को निर्दिष्ट करने में सहायता करना है। इसमें शामिल है, अपितु सीमित नहीं है, समझौता ज्ञापन के परिक्षेत्र में निर्दिष्ट सभी मामलों में सहयोग करने वाले संस्थानों के संगत प्राधिकारियों के साथ सम्पर्क रखना, विविध क्षेत्रों में शोधकर्ताओं एवं विशेषज्ञों के बीच संबंध स्थापित करना तथा प्रोत्साहित करना, परिकल्पित कार्यक्रमों इत्यादि में पूर्ण सहभागिता को सुनिश्चित करने के लिए इस प्रकार के समझौता ज्ञापनों के विषय में विभागों/केन्द्रों /विद्यालयों और भा.प्रौ.सं मुंबई के विद्यार्थियों के बीच जागरूकता पैदा करना है।

सहभागी संस्थानों के साथ विद्यार्थी विनिमय अनुबंध के माध्यम से विद्यार्थियों के लिए विनिमय कार्यक्रमों को बढ़ावा देना है । सहभागी होने वाले संस्थानों में पाठ्यक्रम कार्य और/अथवा अनुसंधान कार्य में सहभागी होने के लिए विद्यार्थीयों को प्रोत्साहित किया जाता है । इस प्रकार से वैश्विक कार्यसंस्कृति को जानने तथा आत्मसात करने के लिए उन्हें अंतर्राष्ट्रीय ज्ञान और अवसर दिया जाता है।

भा.प्रौ.सं. मुंबई में आने वाले शिष्टमंडलों एवं विद्यार्थियों के आगमन को सुविधाजनक बनाने के लिए अन्य आंतरिक लोगों के साथ सम्पर्क कायम करना ।

विनिमय कार्यक्रम में सहभागी होनेवाले विद्यार्थियों, विदेश जानेवाले तथा देश में आने वाले दोनों से संबंधित मामलों की नीति निर्धारण में संकायाध्यक्ष शैक्षिक कार्यक्रम, तथा संकायाध्यक्ष विद्यार्थी कार्यकलाप के साथ समन्वयन करना।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय भारत सरकार और राज्य सरकार के कार्यालयों के साथ भा.प्रौ.सं मुंबई के अंतर्राष्ट्रीयकरण के प्रयासो से संबंधित सभी मामलों पर सम्पर्क स्थापित करना ।

विदेशों तथा इस संस्थान के संगठनों के बीच शैक्षणिक तथा सांस्कृतिक संबंध को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न देशों के राजदूतों तथा वाणिज्यदूतावासों से सम्पर्क स्थापित करना ।

भा.प्रौ.सं मुंबई के विद्यार्थियों एवं स्टाफ के लिए विदेशी भाषा पाठ्यक्रम की व्यवस्था करना एवं प्रदान करना।

वैश्विक संस्थानों के सहयोग के साथ शैक्षिक उपक्रम स्थापित कर भा.प्रौ.सं मुंबई के अंतर्राष्ट्रीयकरण को सहज बनाना एवं बढ़ावा देना और सहयोग के नए मॉडेल को सुविधाजनक बनाना।

सहयोगात्मक अनुसंधान की समृद्धि के लिए भारत में अन्य विश्वविद्यालयों के साथ सहयोग करना।

राजीव दुसाने
संकायाध्यक्ष (अंतर्राष्ट्रीय संबंध)

 

Other Links