Language Courses

 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई, शैक्षिक वर्ष 2004-2005 से बुनियादि फ्रेंच संवाद पाठ्यक्रम, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई के विद्यार्थियों और स्टाफ के लिए संचालित कर रहा है। शैक्षिक वर्ष 2009-10 वसंत सत्र से जापानी भाषा की शुरुआत हुई है। जर्मन भाषा पाठ्यक्रम शैक्षिक वर्ष 2010-11 से शुरू हुआ। चीनी भाषा पाठ्यक्रम शैक्षिक वर्ष 2011-12 से शुरू किया गया।.

नई दिल्ली में फ्रांस के राजदूत, मुंबई में फ्रांस के वाणिज्यदूतावास, कू इन्टरनेशनल कं. लि., जापान, डैड कार्यालय तथा बीजिंग जिओटोंग विश्वविद्यालय, चीन,का हम आभारी हैं जो इन कक्षाओं में पढ़ाने के लिए क्रमशः फ्रांस, जापान, जर्मनी तथा चीन से शिक्षक की खोज कर उन्हें भेजने में हमें सहायता कर रहे हैं।

फ्रेंच पाठ्यक्रम की लोकप्रियता इन वर्षों में बढ़ गई है और इसी तरह जापानी, जर्मनी तथा चीनी पाठ्यक्रम की भी माँग और भी बढ़ गई है। भाषा पाठ्यक्रम के विषय में सूचना के लिए हमारे पास बहुत फोन आते रहते हैं। अतः संदर्भ के लिए प्रायः पूछे जानेवाले प्रश्नों के हमने कुछ उत्तर तैयार किए हैं।

1. फ्रेंच, जर्मन, जापानी व चीनी भाषा पाठ्यक्रम के लिए शुल्क क्या हैं ?

हम लोग एक पाठ्यक्रम के लिए रु 1500/- का शुल्क लेते हैं- ( प्रतिवर्ष संशोधन की शर्त है ). यह शुल्क मुख्यतः अध्ययन सामग्री ( शिक्षकों द्वारा अनुशंसा की गई पाठ्य-पुस्तकें एवं अभ्यास पुस्तिकाएं) तथा पाठ्यक्रम के समय दी जानेवाली सामग्री की लागत के लिए लिया जाता है। इन शुल्कों से कुछ प्रशासनिक ऊपरी खर्चों का भी ध्यान रखा जाता है। अध्ययन सामग्री की लागत में कोई भी बदलाव के आधार पर प्रतिवर्ष शुल्क संशोधित होता है। पंजीयन के समय ही अध्ययन सामग्री दी जाती है।

2. फ्रेंच, जर्मन, जापानी व चीनी भाषा पाठ्यक्रम की अवधि क्या है ?

सभी भाषा पाठ्यक्रम हरेक 50-50 घंटे के दो अलग-अलग मॉडुल में, दो सत्र में चलते हैं; मॉडुल 1 शरद सत्र में, और मॉडुल II वसंत सत्र में होता है। मॉडुल I का ही विकास मॉडुल II हुआ है और मॉडुल II में नामांकन के लिए मॉडुल I को पास करना अनिवार्य है।

3. क्या यह पाठ्यक्रम बाहरी लोगों के लिए भी है ?

नहीं। यह केवल वर्तमान भा.प्रौ.सं.मुंबई के विद्यार्थियों और स्टाफ सदस्यों ( संस्थान एवं परियोजना स्टाफ) साथ ही उनके परिवार के सदस्यों के लिए है। न्यूनतम आयु सीमा 12 वर्ष है।

4.इस पाठ्यक्रम के लिए हम कैसे पंजीयन करते हैं ?

पंजीयन की प्रक्रिया, शुल्क और अंतिम तिथि के पूर्ण विवरण हर वर्ष पाठ्यक्रम के प्रारंभ होने के पहले संकायाध्यक्ष, अन्तरराष्ट्रीय संबंध के कार्यालय से जारी होता है।
कर्मचारियों के लिए पंजीयन पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर होता है, बशर्ते कि संकायाध्यक्ष अन्तरराष्ट्रीय संबंध कार्यालय के द्वारा शुल्क का भुगतान हुआ हो।

विद्यार्थियों के बैच के लिए शैक्षिक वर्ष 2010-11 से निम्नवत प्रक्रिया अपनायी जाएगी:-
1. विद्यार्थियों द्वारा उल्लेखित उद्देश्य के आधार पर उनकी संक्षिप्त सूची महासचिव,सांस्कृतिक कार्य के द्वारा तैयार की जाएगी।
2. संक्षिप्त सूची में आनेवाले विद्यार्थियों को शुल्क भुगतान की समय सारणी और अवधाण राशि के संबंध में सूचना, संकायाध्यक्ष- आई आर, द्वारा दी जाएगी। ( जैसा कि विज्ञापन में उल्लेखित होता है)। कक्षा में शामिल होने की अनुमति केवल उन्हीं विद्यार्थियों को मिलेगी जिन्होंने अंतिम तिथि तक शुल्क जमा कर दिए हैं।

5. प्रमाणपत्र प्रदान करने का मानदण्ड क्या है ?

सभी परीक्षाओं में शामिल होना आवश्यक है। एक मॉडुल में 50% अंक न्यूनतम अंक है। परीक्षा पास करनेवाले विद्यार्थियों को मॉडुल में उपस्थिति का प्रतिशत और परीक्षा में प्राप्त अंक उल्लेख करते हुए, प्रमाणपत्र दिया जाएगा। पहला मॉडुल पास करनेवाले विद्यार्थी ही दूसरे मॉडुल के प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए योग्य होंगे। विद्यार्थी पहला और दूसरा मॉडुल का अलग-अलग प्रमाणपत्र प्राप्त करेंगे।

प्रमाणपत्र निम्नांकित प्राधिकारियों द्वारा जारी किया जाता है। :-
फ्रेंच : एलायन्स फ्रेचाइज ,मुंबई .
जापानी : कू इन्टरनेशनल कम्पनी लि., जापान
जर्मन : डाड
चीनी : बीजिंग जिओटोंग विश्वविद्यालय, चीन

6. मूल प्रमाणपत्र खो जाने पर क्या अनुलिपि प्रमाणपत्र मिलेगा?

अनुलिपि प्रमाणपत्र नहीं मिलेगा क्योंकि यह प्रमाणपत्र भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई द्वारा जारी नहीं होता है।

7. यदि हमने पहला मॉडुल पास नहीं की है तो क्या दूसरा मॉडुल में उपस्थित हो सकते हैं। ?

हाँ। आप व्याख्यान में उपस्थित हो सकते हैं, लेकिन यह संबंधित शिक्षक से अनुमति के अधीन है। परन्तु यदि आपने पहला मॉडुल पास नहीं की है तो दूसरे मॉडुल के लिए कोई भी प्रमाणपत्र नहीं प्राप्त करेंगे।

8.दूसरा मॉडुल के लिए क्या हमें पुनः पंजीयन कराना होगा ?

नहीं । एक विशेष शैक्षिक वर्ष में सम्पूर्ण पाठ्यक्रम ( दो मॉडुल समाविष्ट) के लिए पंजीयन होता है।

9.मेरी अवधाण राशि मुझे कब मिलेगी ?<

पहला मॉडुल के अंत में, बशर्तें कि अपेक्षित उपस्थिति न्यूनतम 80% पूर्ण की हो, पहला मॉडुल के बाद छोड़ देने पर अवधाण राशि वापस कर दी जाएगी। अन्य सभी मामले में दूसरे मॉडुल के अंत में यह वापस कर दी जाएगी लेकिन पुनः शर्त वही है कि 80% उपस्थिति होनी चाहिए। यदि विद्यार्थी पहले मॉडुल में 80% उपस्थिति में विफल रहता है तो वह अगले मॉडुल में इसे पूरा करेगा। मॉडुल के पूर्ण होने पर संकायाध्यक्ष, अन्तरराष्ट्रीय संबंध कार्यालय उपस्थिति पूर्ण करनेवाले विद्यार्थियों की सूची नक़दी अनुभाग को भेजेगा। संस्थान की प्रक्रियाओं के अनुसार नकदी अनुभाग इन विद्यार्थियों को अवधाण राशि वापस करेगा। सभी विद्यार्थियों को उनकी अवधाण राशि की वापसी के विषय में सूचना देते हुए उन्हें ईमेल भेजा जाएगा।

10.यदि मॉडुल 2 जारी नहीं रख पाता हूँ तो मैं क्या करू ?

विपंजीयन और अवधाण राशि की वापसी उस निर्धारित शैक्षिक वर्ष में सत्र के लिए पाठ्यक्रम समायोजन की अंतिम तिथि के एक दिन बाद ही हो सकेगा।


11. इस वर्ष यदि दूसरा मॉडुल पूर्ण करने में असमर्थ हूँ तो क्या मैं अगले वर्ष पुनः आवेदन कर सकता हूँ ?क्या मुझे पुनः पंजीयन कराना होगा ?क्या मुझे पुनः पूर्ण पाठ्यक्रम शुल्क देना होगा?
हाँ , आपको पुनः पंजीयन कराना होगा, बशर्तें की स्थान उपलब्ध हो। जारी रखने के शुल्क के रूप में एक छोटी सी राशि ( वर्तमान में रु 250) का भुगतान करना होगा।

12. प्रायः पूछे जानेवाले प्रश्नों में मेरे प्रश्न नहीं है तो मुझे क्या करना चाहिए ?

कृपया एक ईमेल: को भेज दें और तदनुसार प्रायःपूछे जानेवाले प्रश्न को हम अद्यतन कर लेंगे।